Sunday, December 4, 2022
HomeHealthGood News! ऑयली हेयर को कहें बाय-बाय, मॉनसून में ऐसे करें बालों...

Good News! ऑयली हेयर को कहें बाय-बाय, मॉनसून में ऐसे करें बालों की देखभाल; अपनाएं ये आसान और असरदार तरीका, जानिए तरीका

ऑयली हेयर को कहें बाय-बाय: मॉनसून में बालों व स्कैल्प में चिपचिपापन होना एक आम समस्या है। यह चिपचिपापन बेहद ही इरिटेटिंग लगता है। इसके कारण कभी-कभी बालों से स्मेल भी आती है और मन करता है कि बस जल्दी से बालों को वॉश कर लिया जाए। हालांकि बार-बार शैंपू करने से बाल पतले और कमजोर होने लगते हैं। आपको बता दें ऑयली हेयर को कहें बाय-बाय, मॉनसून में ऐसे करें बालों की देखभाल; अपनाएं ये आसान और असरदार तरीका, आइये जानते है तरीके के बारें में

मॉनसून में हर दूसरे दिन आपके बाल चिपचिपे हो जाते हैं तो यकीनन आप हेयर वॉश के जरिए बालों में एक फ्रेशनेस ला सकती हैं। लेकिन अगर आप उन महिलाओं में से एक हैं, जिनके बार बहुत अधिक ऑयली व चिपचिपे हो जाते हैं, तो ऐसे में हर दिन बालों को वॉश करने से आपको फायदा कम और नुकसान ज्यादा होता है। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे आसान उपायों के बारे में बता रहे हैं, जिनकी मदद से आप अपनी ऑयली हेयर की इस समस्या को फिक्स कर सकती हैं।

इसे भी पढ़े-


सबसे पहले वजह जानें

ऑयली हेयर की समस्या से निजात पाने से पहले जरूरी है कि आप इसके कारणों पर भी जरा गौर फरमाएं। ग्रीसी व ऑयली हेयर का एक मुख्य कारण ओवरएक्टिव सिबेशस ग्लैंड का होना है। इन ग्रंथियों के ओवरएक्टिव होने पर अत्यधिक सीबम का उत्पादन होता है, जिससे बाल चिपचिपे नजर आते हैं।

वैसे तो सीबम आपके बालों को हेल्दी व स्मूद बनाता है और उन्हें रूखा होने से बचाता है। लेकिन जब यह आवश्यकता से अधिक उत्पादित होता है, तो इससे आपके बाल व स्कैल्प ऑयली नजर आते हैं। कभी-कभी इसके कारण कई तरह की हेयर प्रॉब्लम्स जैसे डैंड्रफ आदि का भी सामना करना पड़ सकता है।

वहीं, अगर अत्यधिक सीबम प्रॉडक्शन की बात हो तो इसके लिए आनुवंशिक समस्या, अनहेल्दी ईटिंग हैबिट्स, दवाओं का सेवन, बालों की सही देखभाल ना करना, मौसम में बदलाव व हार्मोनल उतार-चढ़ाव आदि जिम्मेदार हो सकते हैं।

शैंपू करने का सही तरीका (Hair Wash Method)

बालों की केयर का सबसे पहला तरीका है उसे शैम्पू करना। इसके लिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा। सबसे पहले तो आप हर दिन शैम्पू करने से बचें। दरअसल, रोजाना शैम्पू करने से स्कैल्प का नैचरल ऑयल धुल जाता है और फिर उसे मेंटेन करने के लिए आपकी स्कैल्प जरूरत से ज्यादा सीबम का उत्पादन करती हैं।

इस कारण आपके बाल ऑयली लगते हैं। साथ ही इस बात का खास खयाल रखें कि बालों को शैम्पू करते समय नेल्स का इस्तेमाल करने से बचें। क्योंकि इससे आपके स्ट्रैंड्स पर अनावश्यक फ्रिक्शन होता है। इससे ना केवल आपकी स्कैल्प में जलन होती है, बल्कि इससे स्कैल्प पर ऑयल प्रॉडक्शन भी अधिक होता है।

घरेलू नुस्खें हैं बेहद कारगर

ऐसी कई होम रेमिडीज होती हैं, जिन्हें अपनाने से भी ऑयली हेयर की समस्या से निजात पाई जा सकती हैं। मसलन, जब आपकी स्कैल्प ऑयल प्रॉडक्शन अतिरिक्त करती हैं तो इससे आपकी स्कैल्प का पीएच लेवल बिगड़ जाता है। ऐसे एप्पल साइडर विनेगर आपके काम आएगा।

आप इसे पानी के साथ मिक्स करके उससे अपने बालों को धो लें और इसे कुछ देर के लिए ऐसे ही छोड़ दें। आखिर में बालों को साफ पानी से क्लीन करें। यह बालों के पीएच लेवल को मेंटेन करने के साथ-साथ स्कैल्प पर अतिरिक्त ऑयल प्रॉडक्शन को भी कन्ट्रोल करता है।

एलोवेरा भी अतिरिक्त सीबम के उपचार में मददगार है। यह आपकी स्कैल्प को सूदिंग इफेक्ट देने के साथ-साथ प्रॉडक्ट बिल्डअप से भी छुटकारा दिलाता है। आप इसे मास्क के रूप में अपने बालों में इस्तेमाल कर सकती हैं या फिर इसे आप इसे अपने हेयर प्रॉडक्ट्स में भी शामिल कर सकती हैं।

इन छोटी-छोटी बातों का रखें ध्यान

अगर आप ऑयली हेयर की समस्या से हमेशा परेशान रहती हैं तो आपको कुछ छोटी-छोटी बातों पर ध्यान देना चाहिए। जैसे,

हमेशा अपने हेयर टाइप के अनुसार ही हेयर प्रॉडक्ट्स का इस्तेमाल करें। साथ ही इस बात पर फोकस करें
कि आपके हेयर प्रॉडक्ट्स सिलिकॉन फ्री हों।

बालों में ओवर-ब्रशिंग ना करें। यह आपकी स्कैल्प को अतिरिक्त ऑयल प्रॉडक्शन के लिए प्रोत्साहित
करता है।

हीट स्टाइलिंग टूल्स जैसे स्ट्रेटनिंग आयरन और ब्लो ड्रायर्स का इस्तेमाल कम से कम करें। इनसे आपको
बालों को कई तरह से स्टाइल करने में भले ही मदद मिले, लेकिन यह आपके बालों को तेजी से ग्रीसी बनाते
हैं।

बालों से इंस्टेंट ऑयलीनेस व चिपचिपापन दूर करने के लिए आप ड्राई शैम्पू की मदद ले सकती हैं। अगर
आपके पास ड्राई शैम्पू नहीं है तो ऐसे में आप कॉर्नस्टार्च व बेबी पाउडर का इस्तेमाल करें। हालांकि, इन्हें
कम मात्रा में ही इस्तेमाल करें, अन्यथा आपके बाल व्हाइट नजर आएंगे।

अपने आहार पर भी अवश्य ध्यान दें। विटामिन बी से भरपूर खाद्य पदार्थ को डाइट में शामिल करने से
आपके सीबम उत्पादन को कम करने में मदद मिलती है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments