Saturday, December 10, 2022
HomeHealthGood news! केवल 2 महीनों में हाई ब्लड शुगर लेवल हो जायेगा...

Good news! केवल 2 महीनों में हाई ब्लड शुगर लेवल हो जायेगा कम, अपनायें ये तरीका

डाय फ्री जूस ब्लड शुगर लेवल को कम करने और इसके उतार-चढ़ाव को नियंत्रित करने, इंसुलिन के लिए सेल प्रतिक्रिया में सुधार करने और डायबिटीज के अन्य लक्षणों को बेहतर करने में मदद करता है। यह डायबिटीज से पीड़ित लोगों को राहत पाने और उनके जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए एक शक्तिशाली समाधान है।’ आपको बता दें केवल आप 2 महीनों में हाई ब्लड शुगर लेवल हो जायेगा कम, अपनायें ये तरीका, आइये जानते है तरीके के बारे में

Read Also: Grey hair: बालों को सफेद होने से कैसे रोकें? बहुत ही काम आएगा ये नुस्खा आजमा कर जरूर देखें

कपिवा एकेडमी ऑफ आयुर्वेद का दावा है कि डाय फ्री जूस का इस्तेमाल करने वाले 86 प्रतिशत लोगों ने अपने हाई ब्लड शुगर लेवल में गिरावट देखी, जबकि 74 प्रतिशत उपयोगकर्ताओं की दैनिक डायबिटीज की दवाओं पर निर्भरता कम हो गई। इसका समर्थन करते हुए, कपिवा की आर एंड डी हेड डॉ. कृति सोनी कहती हैं, ‘डाय फ्री जूस 11 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों जैसे कि करेला, जामुन, गिलोय, आंवला, गुडमार के मिश्रण से तैयार किया गया है। डाय फ्री जूस ब्लड शुगर लेवल को कम करने और इसके उतार-चढ़ाव को नियंत्रित करने, इंसुलिन के लिए सेल प्रतिक्रिया में सुधार करने और डायबिटीज के अन्य लक्षणों को बेहतर करने में मदद करता है। यह डायबिटीज से पीड़ित लोगों को राहत पाने और उनके जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए एक शक्तिशाली समाधान है।

डॉ. कृति आगे विस्तार से कहती हैं, ‘कपीवा डाय फ्री जूस एलोपैथिक दवाओं के साथ भी लिया जा सकता है। चूंकि यह एक आयुर्वेदिक सप्लीमेंट है इसलिए यह डायबिटीज के साथ-साथ इससे जुड़ी जटिलताओं जैसे कि अधिक प्यास, बार-बार पेशाब आना, अपच, थकान, कमजोर प्रतिरक्षा आदि को प्रबंधित करने में मदद करता है। डायबिटीज अनुचित चयापचय की समस्या है, इसलिए इससे पीड़ित लोग अक्सर पेट फूलने और एसिडिटी जैसी पाचन समस्याओं से परेशान रहते हैं। आयुर्वेद का समग्र लाभ यह है कि यह जूस इन समस्याओं को जड़ से खत्म करने में मदद करता है। डाय फ्री जूस के नियमित सेवन से हमने देखा है कि उपभोक्ता एलोपैथी दवाओं पर अपनी निर्भरता कम करने में सक्षम हुए हैं।

Read Also: Vitamin Deficiency: इस विटामिन की कमी से होता है Hair Fall, शरीर में भी आती है कमजोरी, Check here

कपिवा डाय फ्री जूस को लेकर उपयोगकर्ताओं की राय

डाय फ्री जूस का इस्तेमाल करने वाले उपभोक्ताओं ने डॉ. सोनी के साथ अपने अनुभव साझा किये और बताया कि डाया फ्री जूस से उन्हें किस तरह डायबिटीज को कम करने और उनके जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद मिली। 67 वर्षीय राशी दरिरा का दावा है कि कपिवा डाय फ्री जूस का सेवन शुरू करने के बाद उन्हें कई लाभ महसूस हुए। उन्होंने बताया, ‘मुझे अपच की समस्या हुआ करती थी। जब मैं इस समस्या का इलाज करने में सक्षम हुई, तो मुझे टाइप 2 डायबिटीज का पता चला। शुरुआत में मेरा ब्लड शुगर लेवल 500 mg/dl था लेकिन कपिवा डाय फ्री जूस पीने के सिर्फ चार महीनों में ही यह काफी कम हो गया। यह अब आमतौर पर लगभग 140-142 mg/dl होता है। मैंने अपना वजन भी कम किया है और मैं अब पहले से ज्यादा ऊर्जावान भी महसूस करती हूं। इन लाभों को देखने के बाद मैंने अपने दोस्तों को भी इसकी सिफारिश की और उन्होंने भी अपने जीवन में एक अच्छा बदलाव महसूस किया है।’

54 साल की दिव्या दरयानी ने अभिनेत्री मलाइका अरोड़ा का विज्ञापन देखने के बाद इसे लेने का फैसला किया। उन्होंने कहा, ‘मुझे हाल ही में ब्लड टेस्ट कराने के बाद डायबिटीज का पता चला। विज्ञापन देखने के बाद मैंने मन ही मन सोचा कि एक बार इस जूस को ट्राई करूं। इसके इस्तेमाल से कुछ ही समय में मुझे कई फर्क महसूस हुए। मेरा एनर्जी लेवल बढ़ने लगा और मैं पहले की तुलना में कहीं अधिक एक्टिव हो गई। मेरा वजन कम होते देख लोग हैरान रह गए। मेरा वजन पहले 100 किलो से अधिक हुआ करता था और अब मैं 86-87 किलो के बीच हूं।’

Read Also: Face best Tips: फेस पर रह जाते हैं पिंपल के निशान? तो अपनाये इन घरेलू तरीकों को, कुछ ही दिनों में गायब हो जायेंगे पिम्पल

कपिवा डाय फ्री जूस: आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का एक जबरदस्त मिश्रण

  1. इसमें करेला है, जो ब्लड शुगर लेवल को कम करने में मदद करता है। इसमें कम से कम तीन सक्रिय पदार्थ होते हैं जिनमें चरंती, विसीन और पॉलीपेप्टाइड-पी शामिल हैं। इनमें एंटी डायबिटिक गुण होते हैं और ब्लड शुगर को कम करने की क्षमता होती है।
  2. विजयसार और कुटकी अपने मूत्रवर्धक गुणों के कारण बार-बार पेशाब आना, थकान, जोड़ों के दर्द आदि जैसे लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं और शरीर में इंसुलिन उत्पादन बढ़ाने और बीटा सेल पुनर्जनन में मदद करने की शरीर की क्षमता में सुधार करते हैं।
  3. बेलपत्र में एक सक्रिय घटक ‘फेरोनिया गम’ होता है, जो कोशिकाओं से रक्त प्रवाह में इंसुलिन के उत्पादन को कंट्रोल करता है।
  4. नीम, गुडमार और तुलसी में शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जो इंसुलिन रिलीज को कंट्रोल करने और ब्लड शुगर लेवल को मैनेज करने में मदद करते हैं, प्रतिरक्षा को मजबूत करते हैं और अग्नाशयी कोशिकाओं को ठीक से काम करने में मदद करते हैं।
  5. जामुन, गिलोय, आंवला और मेथी जैसी जड़ी-बूटियां घुलनशील फाइबर से भरपूर होती हैं, जो पाचन और कार्बोहाइड्रेट चयापचय में सुधार करने में मदद करती हैं जिससे ब्लड शुगर के उतार-चढ़ाव को कंट्रोल किया जा सकता है। ये जड़ी-बूटियां पाचन संबंधी विकारों को कम करने में भी मदद करती हैं।

कैसे करें कपिवा डाय फ्री जूस का इस्तेमाल

आयुष प्रमाणित उत्पाद, अतिरिक्त चीनी, कृत्रिम स्वाद और रंगों से मुक्त डाय फ्री जूस परम प्राकृतिक हर्बल मिश्रण है जिसे आप आज के समय में पा सकते हैं। आपको बस इतना करना है कि 30ml पानी में 30ml डाय फ्री जूस मिलाएं और भोजन से पहले दिन में दो बार इसका सेवन करें। अगर सुबह ले रहे हैं, तो ध्यान रहे कि खाली पेट इसका सेवन करें।

Read Also: Good News! अगर हेल्दी बच्चा चाहिए? तो इस वक्त तक पति-पत्नी कंट्रोल कर लें वजन, नहीं तो..

Disclaimer: व्यक्त किए गए विचार और राय डॉक्टरों के स्वतंत्र पेशेवर निर्णय हैं और hindi.informal उनके विचारों की सटीकता के लिए कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments